Wednesday , May 18 2022
Breaking News

Navratri Day 2 : दूसरा दिन मां ब्रह्मचारिणी का, जानिए पूजा विधि, भोग, कथा 

Navratri 2021 Day 2 Maa Brahmacharini : digi desk/BHN/ नवरात्र के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। ब्रह्मचारिणी भी मां दुर्गा का एक अवतार हैं। शास्त्रों में लिखा है कि ब्रह्मचारिणी का अर्थ है तपस्या करने वाली देवी। उनके दाहिने हाथ में नामजप की माला है और उनके बाएं हाथ में कमंडल है। अपने पिछले जन्म में देवी ने हिमालय में एक बेटी के रूप में जन्म लिया और भगवान शंकर को अपने पति के रूप में पाने के लिए घोर तपस्या की। इसलिए शास्त्रों में उनका नाम ब्रह्मचारिणी कहा गया है। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने वाले भक्त हमेशा तेज और ऐश्वर्य के सुख का आनंद लेते हैं। मां को ज्ञान और ज्ञान की देवी भी कहा जाता है। जो लोग देवी ब्रह्मचारिणी की भक्ति के साथ पूजा करते हैं, मां उन्हें हमेशा खुश रहने का आशीर्वाद देती हैं। वह व्यक्ति अपने जीवन में हमेशा संयम, विश्वास रखता है। वह नैतिकता सिखाती है। मां ब्रह्मचारिणी की आराधना से जीवन में कई चुनौतियां आती हैं, जिन्हें दूर किया जा सकता है।

मां ब्रह्मचारिणी की पूजा से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है। जीवन के कठिन संघर्षों में भी उसका मन कर्तव्य पथ से विचलित नहीं होता है और वह अपने काम में लगा रहता है और मां ब्रह्मचारिणी के भक्त को मां की कृपा से कठिनाइयों के बावजूद सफलता मिलती है।

Maa Brahmacharini: मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि

कंडा जलाने के बाद घी, हवन सामग्री, बताशा, एक जोड़ी लौंग, पान, सुपारी, कपूर, गूगल, इलायची, किशमिश, कमलगट्टा अर्पित करें। नवरात्रि के दूसरे दिन हवन में इन मंत्रों के जाप से मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करें. हवन में दूसरे दिन माता ब्रह्मचारिणी के इस मंत्र का जाप करें – ओम ब्रं ब्रिं ब्रं ब्रह्मचारिणै नमः।

 मां ब्रह्मचारिणी का भोग

नवरात्र के दूसरे दिन मां को चीनी का भोग लगाएं और दान करें। इससे साधक को लंबी आयु की प्राप्ति होती है। योग शास्त्र के अनुसार यह शक्ति स्वाधिष्ठान चक्र में स्थित है। इसलिए स्वाधिष्ठान चक्र में ध्यान करने से यह शक्ति प्रबल होती है और हर जगह सफलता और विजय प्राप्त होती है।

 मां ब्रह्मचारिणी का रूप

माता का स्वरूप दिव्य है। वह सफेद कपड़े पहने एक कन्या के रूप में है, जिसके एक हाथ में अष्टदल की माला और दूसरे में कमंडल है। वह अक्षय माला और कमंडलधारिणी, शास्त्रों के ज्ञान और तंत्र-मंत्र आदि के समावेश से जुड़ी हुई है। वह अपने भक्तों को सर्वज्ञ ज्ञान देकर विजयी बनाती है।

Navratri: मां ब्रह्मचारिणी की कथा

जब मां ब्रह्मचारिणी देवी का जन्म हिमालय में हुआ, तो उन्होंने नारदजी की शिक्षाओं को पूरा करने के बाद भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए घोर तपस्या की। इस कठिन तपस्या के कारण उनका नाम तपस्चारिणी यानि ब्रह्मचारिणी पड़ा। मां ब्रह्मचारिणी देवी ने तीन हजार साल तक टूटे हुए बिल्वपत्र खाए और भगवान शंकर की पूजा की। इसके बाद उन्होंने बिल्वपत्र खाना भी छोड़ दिया और कई हजार वर्षों तक निर्जल और भूखे रहकर तपस्या करती रहीं। उसे अपर्णा नाम इसलिए पड़ा क्योंकि उसने पत्ते खाना छोड़ दिया था। घोर तपस्या से देवी का शरीर अत्यंत क्षीण हो गया था। देवताओं, ऋषियों, सिद्धों, ऋषियों ने ब्रह्मचारिणी की तपस्या को एक अभूतपूर्व पवित्र कार्य बताया। उन्होंने कहा, हे देवी, आपकी इस पूजा से आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी। मां ब्रह्मचारिणी देवी की कृपा से व्यक्ति को सभी सिद्धियां प्राप्त होती हैं। मां की आराधना करने वाले व्यक्ति का मन कठिन संघर्षों के समय में भी विचलित नहीं होता है।

 

About admin

Check Also

Weekly Rashifal: इस हफ्ते चमकेगी किस्मत, पढ़िए आपके लिए कैसा रहेगा नया सप्ताह , जानिए शुभ रंग, शुभ अंक

Weekly Rashifal (15-21 May 2022) मेष (21 मार्च-20 अप्रैल): व्यावसायिक कार्यों में लचीला रवैया अपनाएंगे। …

One comment

  1. Pingback: cialis cost

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *